Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

Archive for मई 15th, 2009

आओ हम सब मिलिकै रोई यहि देस कै भैया का होई॥

खादी खाकी मौसेरे भाई,काटे मनइन कै गटई
आपनआपन धरम छोडि ,उई करत है दुनो चोरकटई

यहि देस कै भैया का होई आओ हम….


तुम
देखो जाई कचेहरी मा,सब रोवारोवा नोच लेई।
अर्दली ,वकील और पेशकार ,मिली खून चूस जस जोंक लेई

यहि देस कै भइया का होई आओ हम….

राम अंधेरे जनप्रिय नेता ,काटि चुके दस साल जेल है।
और लड़े इलेक्शन जेलै से,मुल अब तो उई मंत्री जेल है

यहि देस कै भइया का होईआओ हम….

बासी रोटी टूकाटूका ,घिसुआ कै लरिके बाँटी रहे

जनता के सेवक नेताजी ,मुर्गा बिरयानी काटि रहे

यहि देस कै भइया का होईआओ हम….

नेता जी के घर भरी पड़ी , काजू बादामन की बोरी

मुल मूंगफली का तरस रहे,मजदूरन कै छोराछोरी
यहि देस कै भइया का होई आओ हम….

मोहम्मद जमील शास्त्री
प्रवक्ता (हिन्दी)

Read Full Post »