Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

Archive for अगस्त 17th, 2010


प्रदेश के अलीगढ जनपद में भूमि अधिग्रहण के खिलाफ चल रहे किसान आन्दोलन पर उत्तर प्रदेश सरकार के दिशा-निर्देश पर पुलिस और पी.एस.सी ने जबरदस्त फायरिंग कर 5 किसानो की हत्या कर दी। फिर शुरू हुआ सरकार का नाटक की किसानो ने पथराव कर दिया था जिससे मजबूरी में पुलिस को फायरिंग करनी पड़ी। मीडिया मैनेजमेंट का खेल शुरू हुआ और फिर शासन और प्रशासन के पक्ष में तरह-तरह के समाचार जारी होने लगे।
19 दिन से यमुना एक्सप्रेस वे पर किसान धरना दे रहे हैं कि उनकी जमीन का अधिग्रहण न किया जाये यदि अधिग्रहण किया जाए तो उसका मुआवजा नोएडा के किसानो के बराबर भुगतान किया जाए इसमें उनकी मांग कहीं से गलत नहीं है अलीगढ में माडर्न सिटी बनना है उसके लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है। किसानो को उनकी भूमि का मुआवजा दिए बगैर मनमाने दामो पर शासन-प्रशासन अधिग्रहण करना चाहता है जिसका किसान विरोध कर रहे हैं। उक्त घटना में लगभग 50 लोग घायल हुए हैं ।
सरकारें मजदूर और किसानो की हितों की रक्षा के लिए हर वक्त चिंतित रहती हैं और बगुला भगत की तरह उनका हर समय भक्षण भी करती रहती हैं। कोई भी सरकार पूंजीपतियों और इजारेदारों की हित रक्षा की बात नहीं करती है लेकिन इस तथ्य के विपरीत बहुराष्ट्रीय कंपनियों को यह सरकारें एक ही बार में नियमो में संशोधन कर 50-50 हजार करोड़ रुपयों का लाभ कराती हैं। अम्बानी ग्रुप का सारा खेल उस समय वित्त मंत्री रहे प्रणव मुखर्जी की दें रही हैऔर आज भी केंद्र सरकार उनके ऊपर मेहरबान रहती है। इन्ही लोगों के पैसे से चुनाव लड़ना होता है। मजदूर किसान से देश का विकास होता है इसलिए मजदूर किसान चाहे आत्महत्या करे, इन राजनैतिक दलों के ऊपर कोई असर नहीं होता है।
स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर उत्तर प्रदेश की सरकार ने किसानो को तोहफा दे दिया।

सुमन
लो क सं घ र्ष !

Read Full Post »


वर्ष के श्रेष्ठ ब्लोगर का सम्मान


श्री समीर लाल ‘समीर’ हिंदी चिट्ठाजगत के सर्वाधिक समर्पित,लोकप्रिय और सक्रिय हस्ताक्षर हैं . लोकप्रियता के मामले में इन्हें हिंदी चिट्ठाजगत में वही सम्मान प्राप्त है जो भारतीय संगीत में ऐ. आर. रहमान को .

साहित्य की हर विधाओं में लिखने वाले श्री समीर लाल जी का व्यंग्य जहां दिल की गहराईयों में जाकर गुदगुदाता है वहीं इनकी कविता अपनी संवेदनात्मक अभिव्यक्ति के कारण चिंतन के लिए विवश कर देती है .

नए चिट्ठाकारों के लिए प्रेरणास्त्रोत श्री समीर लाल जी की लोकप्रियता का पैमाना यह है कि हर नया चिट्ठाकार इन्हें अपनी प्रेरणा का प्रकाश पुंज महसूस करता है.

……आज यह उद्घोषित करते हुए मुझे अपार ख़ुशी हो रही है कि ब्लोगोत्सव-२०१० की टीम ने इन्हें वर्ष के श्रेष्ठ चिट्ठाकार का अलंकरण देते हुए सम्मानित करने का निर्णय लिया है .//

वर्ष की श्रेष्ठ महिला ब्लोगर का सम्मान

एक ऐसी चिट्ठाकारा जिनकी सक्रियता अचंभित करती है हिंदी ब्लॉग जगत को और आवाज़ का जादू सिर चढ़कर बोलता है हमारे-आपके -सबके ऊपर !
जिन्होंने ब्लोगोत्सव -२०१० की भव्य शुरुआत आचार्य संजीव वर्मा ‘सलिल’ की लिखी वाणी वन्दना को स्वर देकर की और सुर-सरस्वती तथा संस्कृति की त्रिवेणी प्रवाहित करते हुए दिया ब्लोगोत्सव को एक नया आयाम !
ब्लोगोत्सव-२०१० के पूरे परिदृश्य को आयामित करने में जिन चिट्ठाकारों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है उनमें से एक हैं –
श्रीमती स्वप्न मंजूषा “अदा” ।
जिन्हें ब्लोगोत्सव-२०१० की टीम ने उत्सव को एक नया आयाम देने के दृष्टिगत और पूरे वर्ष भर अपनी सारगर्भित टिप्पणियों तथा पोस्ट के माध्यम से लोकप्रियता का नया अध्याय बनाने हेतु वर्ष की श्रेष्ठ महिला चिट्ठाकारा के रूप में अलंकृत करते हुए सम्मानित करने का निर्णय लिया है।
suman

Read Full Post »


“निश्चित रूप से अन्तराष्ट्रीय हिंदी ब्लॉग उत्सव मनाने की ये पहल प्रशंसनीय है . मैं इस पहल का स्वागत करता हूँ और इसके क्रियान्वयन में अपनी सकारात्मक सहभागिता का विश्वास दिलाता हूँ .साथ ही रवीन्द्र जी को एक सुझाव भी देना चाहता हूँ कि परिकल्पना के माध्यम से एक ऐसा कार्यक्रम अंतरजाल पर चलाया जाए जिसमें ज्यादा से ज्यादा बच्चों की सहभागिता सुनिश्चित हो तथा उन्हें कला और संगीत की सही तालीम देते हुए समाज का जिम्मेदार नागरिक बनाया जा सके, क्योंकि कला के माध्यम से ही हम समाज को सकारात्मक दिशा में मोड़ सकते हैं ……….!”
ये उदगार है एक ऐसे व्यक्ति का जो देश के प्रमुख व्यवसायी,कवि, साधक और चिन्तक हैं …

नाम है सुमन कुमार सिन्हा , पटना स्थित रीजेंट सिनेमा हॉल के मालिक और आर्ट ऑफ लिविंग के प्रमुख सदस्य . ….ब्लोगोत्सव के प्रति उनकी प्रतिबद्धता के दृष्टिगत ब्लोगोत्सव की टीम ने उन्हें वर्ष के श्रेष्ठ ब्लॉग शुभचिंतक का अलंकरण देते हुए सम्मानित करने का निर्णय लिया है !
suman

Read Full Post »