Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

Archive for अक्टूबर 2nd, 2010


आप दुनिया में सांप्रदायिक एकता और सद्भाव के लिए जाने जाते हैं। आजादी के बाद कट्टरपंथियों द्वारा ब्रिटिश साम्राज्यवाद के इशारे पर कराये गए सांप्रदायिक दंगो में आप मौके पर जाकर शांति का सन्देश दे रहे थे किन्तु हिन्दुवात्व वादी संगठनो को इस देश की एकता और अखंडता रास नहीं आ रही थी। उनके प्रतिनिधि नाथू राम गोडसे ने गोली मार कर आपकी हत्या कर दी थी। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में आपका महत्वपूर्ण योगदान था। आज जब देश विकास के पथ पर अग्रसर है। उस विकास के रथ को रोकने के लिए आपके हत्यारों ने राम नामी ओढ़ कर दंगे कराकर इस देश में तबाही पैदा की है और अब वो तरह-तरह के अलगाववादी नारे गढ़ कर सामाजिक विघटन की प्रक्रिया को तेज कर रहे हैं। जब की विभिन्न धर्मो के मतावलंबी पुरानी बातों को भूल कर सामंजस्य की स्तिथि पैदा कर रहे हैं। आपके राम तत्व का मानवीयकरण कर जन्म और मृत्यु के विवादों में फंसा रहे हैं। राम हमारी मर्यादा हैं किन्तु उनको भी हिन्दुवात्व वादी तत्वों ने राजनीति के वोटों में तब्दील करने का काम कई बार किया है। हमारे राम को अगर कुछ कहना होता तो यही कहते कि मेरे लिए लड़ने वाले लोगों अब मुझे बक्श दो लेकिन मेरी जन्मभूमि मत तय करो। जहाँ भी अच्छा है वहां राम है। जहाँ सद्भाव है वहां राम है किन्तु इन हिन्दुवात्व वादी तत्वों ने उनको भी अब नहीं बक्शा है। न्यायिक प्रक्रिया में साक्ष्य और सबूतों के आधार पर फैसले होते थे। अब आने वाले दिनों में आस्था और विश्वास पर फैसले होंगे। उसकी प्रक्रिया अब शुरू हो गयी है।

आपके चेलों ने भी आपके विचारों की जमकर हत्या की है। भ्रष्टाचार उनका उद्योग हो गया है। जिस साम्राज्यवाद के खिलाफ आप जीवन भर लड़ते रहे उसी साम्राज्यवाद के दूसरे स्वरूप के साथ देश चल रहा है। देश में बहुत सारे परिवर्तन ऐसे हो रहे हैं जिससे आपके दर्शन और मीमांशा के विपरीत हैं। हमारे उत्तर प्रदेश में वर्तमान तथा इससे पूर्व में हिन्दुवात्व वादी सरकारें कायम हुई हैं, जो सीधे-सीधे गाली गलौज की भाषा का इस्तेमाल आपके विचारों के लिए करती हैं किन्तु राजनितिक लाभ के लिए कुछ कार्यालयों में आपकी फोटो लगी हुई है। आपकी फोटो के नीचे भी भ्रष्टाचारी अपना काम कर रहे हैं।
आइये ! हम आप सब इस देश की खुशहाली के लिए इतिहास के पूर्वाग्रहों को भूल कर सांप्रदायिक एकता व सद्भाव को कायम रखने की दिशा में एक कदम चलें। यही गाँधी जी को याद रखने का सबसे अच्छा तरीका होगा।

सुमन
लो क सं घ र्ष !

Read Full Post »