Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

Archive for सितम्बर 14th, 2020

ठबाराबंकी। विकास प्राधिकरण बाराबंकी का गठन का प्रस्ताव पहले भी हुआ था, लेकिन किसानों के विरोध के कारण प्रस्ताव ठण्डे बस्ते में चला गया था और अब जिला प्रशासन फिर किसानों की जमीन को औने-पौने दामों पर खरीदकर किसानों को बेरोजगार कर देना चाहते हैं, जब मजदूर गुजरात महाराष्ट्र से जब वहां से भागे तो उन्हें गांव में ही ठिकाना मिला था। 

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा आयोजित प्रदर्शनकारियों को सम्बोधित करते हुए राज्य परिषद सदस्य रणधीर सिंह सुमन ने कहा कि बाराबंकी विकास प्राधिकरण बनाकर सरकार किसानों की जमीन छीन लेना चाहती है। पार्टी के जिला सचिव बृजमोहन वर्मा ने कहा कि एक तरफ किसानों की जमीन छीनी जा रही है, वहीं दूसरी तरफ सरकारी कर्मचारियों की नौकरी छिन रही हैं, यह सरकार नरभक्षी सरकार है। सहसचिव शिवदर्शन वर्मा ने भी कहा कि ओ0पी0डी0 अविलम्बह खोली जाये, जनता को इलाज मिल सके। जुलूस छाया चैराहे से जिलाधिकारी कार्यालय बाराबंकी तक गननभेदी नारे लगाते हुए आया। जिसका नेतृत्व किसान सभा अध्यक्ष विनय कुमार सिंह, पार्टी के सह सचिव डाॅ0 कौसर हुसैन व किसान सभा उपाध्यक्ष प्रवीण कुमार कर रहे थे। प्रदर्शनकारियों ने योगी-मोदी मुर्दाबाद, नरभक्षी सरकार बदलनी है, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी जिन्दाबाद आदि नारे लगाते हुए जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचे। 

प्रदर्शनकारियों में प्रमुख लोग अंकुल वर्मा, श्याम सिंह, विनीत वर्मा, अलाउद्दीन, नीरज वर्मा, महेन्द्र यादव, आशीष, प्रदीप, रितेश यादव, शिवम यादव, पवन पाण्डे, अभिषेक, दीपक, लव त्रिपाठी, भूपेन्द्र प्रताप सिंह, सहजराम, गिरीश चन्द्र, वीरेन्द्र वर्मा, सहजराम, कल्लूराम प्रधान, अमर सिंह गुड्डू आदि प्रमुख लोग थे। 

Read Full Post »