Feeds:
पोस्ट
टिप्पणियाँ

पांच महीने अभी पूरे हुए हैं और मोदी के प्रचारकों का सुर बदल गया। देखिये कल, 24 अक्तूबर के ‘टेलिग्राफ’ में स्वपन दासगुप्त का लेख – Picky with his symbol (अपने प्रतीक का खनन)।
स्वपन दासगुप्त, मोदी बैंड के एक प्रमुख वादक, चुनाव प्रचार के दिनों में बता रहे थे – गुजरात का यह शेर सब बदल डालेगा। आजादी के बाद से अब तक जीवन के सभी क्षेत्रों में ‘छद्म धर्मनिरपेक्षता’ का जो नाटक चलता रहा है, उसका नामो-निशान तक मिट जायेगा। इतिहास की एक नयी इबारत लिखी जायेगी।
आज वही दासगुप्ता मोदी विरोधियों को इस बात के लिये लताड़ रहे हैं कि क्या हुआ, मोदी को लेकर इतना डरा रहे थे, कुछ भी तो नहीं बदला। मोदी की राक्षस वाली जो तस्वीर पेश की जा रही थी, अल्पसंख्यकों को डराया जा रहा था, पड़ौसी राष्ट्रों से भारी वैमनस्य की आशंकाएं जाहिर की जा रही थी – वैसा कुछ भी तो नहीं हुआ। बनिस्बत्, अपने राजतिलक के मौके पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री तक को आमंत्रित करके, जापान, अमेरिका सहित सारी दुनिया को आर्थिक उदारवाद की मनमोहन सिंह की नीतियों पर ही और भी दृढ़ता के साथ चलने का आश्वासन देकर और ‘स्वच्छ भारत’ आदि की तरह के अपने प्रचार अभियानों में आमिर खान, सलमान खान को शामिल करके, और तो और, स्वपन दासगुप्त के अनुसार, योगी आदित्यनाथ की जहरीली बातों का खुला समर्थन न करके मोदी ने अपने ऐसे सभी विरोधियों को निरस्त कर दिया है। उनके लेख की अंतिम पंक्ति है – ‘‘ मोदी के आलोचकों को अब उनकी पिटाई के लिए नयी छड़ी खोजनी होगी, पुरानी तो बेकार होगयी है।’’
(Modi’s critics must find a new stick to beat him with. The old one has blunted)
दासगुप्त का यह कथन ही क्या यह बताने के लिये काफी नहीं है कांग्रेस-शासन के दुखांत के बाद, यह ‘कांग्रेस-विहीनता’ का शासन प्रहसन के रूप में इतिहास की पुनरावृत्ति के अलावा और कुछ नहीं साबित नहीं होने वाला !
मार्क्स की विश्लेषण शैली का प्रयोग करें तो कहना होगा – मानव अपना इतिहास स्वयं बनाते हैं पर मनचाहे ढंग से नहीं। वे अतीत से मिली परिस्थितियों में काम करते हैं और मृत पीढि़यों की परंपरा जीवित मनुष्यों के मस्तिष्क पर एक दुरूस्वप्न सी हावी रहती है। ‘‘ऐसे में कुछ नया करने की उत्तेजना में ही अक्सर वे अतीत के प्रेतों को अपनी सेवा में आमंत्रित कर लेते हैं। उनसे अतीत के नाम, अतीत के रणनाद और अतीत के परिधान मांगते हैं ताकि इतिहास की नवीन रंगभूमि को चिर-प्रतिष्ठित वेश-भूषा में, इस मंगनी की भाषा में पेश कर सके।’’
आरएसएस के प्रचारक और गुजरात (2002) के सिंह के जिन प्रतीकों के आधार पर स्वपन दासगुप्त मोदी को एक नये बदलाव का सारथी बता रहे थे, वे ही अब यह कह करे हैं कि ‘‘प्रधानमंत्री मोदी और चुनाव प्रचार के समय का अदमनीय मोदी बिल्कुल भिन्न है। यह नयी मोदी शैली अभी विकासमान है और इसकी कोई चौखटाबद्ध परिभाषा करना जल्दबाजी होगी।’’
(Modi the prime minister has chosen to be markedly different from Modi the indefatigable election campaigner. The style is still evolving and it would be premature to attempt a rigid definition of the new style)
नयी मोदी शैली ! पहले सरदार पटेल, अब गांधी, नेहरू भी – भारत की राष्ट्रीय राजनीति की चिरप्रतिष्ठित वेश-भूषा और मंगनी की पुरानी भाषा की सजावट से तैयार हो रही नयी शैली !
इसमें शक नहीं कि दुनिया के सभी बड़े-बड़े परिवर्तनों की लड़ाइयों को बल पहुंचाने के लिये अतीत के प्रतिष्ठित प्रतीकों का, आदर्शों और कला रूपों का भी प्रयोग होता रहा हैं। वर्तमान की लड़ाई के सेनानियों में एक नया जज़्बा पैदा करने के लिये अनेक मृतात्माओं को पुनरुज्जीवित किया जाता रहा है। भारत की आजादी की लड़ाई का इतिहास तो ऐसे तमाम उदाहरणों से भरा हुआ है। आधुनिक जनतांत्रिक विचारों के साथ ही इसकी एक धारा स्पष्ट तौर पर पुनरुत्थानवादी धारा रही है। लेकिन उस लड़ाई में अतीत के आदर्शों और प्रतीकों का, अनेक मृतात्माओं का उपयोग गुलामी से मुक्ति की लड़ाई को गौरवमंडित करने के उद्देश्य से किया गया था, न कि किसी प्रकार की भौंडी नकल भर करने के लिएय उनका उपयोग अपने उद्देश्यों और कार्यभारों की गुरुता को स्थापित करने के लिये किया गया था, न कि अपने घोषित कार्यभारों को पूरा करने से कतराने के लिये, अपने चरित्र पर पर्दादारी के लियेय उनका इस्तेमाल कुंद की जा चुकी प्राचीन गौरव की आत्मा को जागृत करने के लिए किया गया था न कि उसके भूत को मंडराने देने के लिए, अपने समय को भूतों का डेरा बना देने के लिये।
गौरवशाली, वीरतापूर्ण राष्ट्रीय आंदोलन की कोख से इस देश में एक पूंजीवादी जनतांत्रिक राज्य की स्थापना हुई। राष्ट्रीय कांग्रेस के नेतृत्व से अबतक इसके विभिन्न चरणों में कई प्रवक्ता पैदा हुए – पंडित नेहरू, लाल बहादुर शास्त्री, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, नरसिम्हा राव, मनमोहन सिंह। इनके अलावा गैर-कांग्रेस दलों से भी छोटे-बड़े अंतरालों के लिये मोरारजी देसाई, चरण सिंह, विश्वनाथ प्रताप सिंह, चन्द्रशेखर, देवगौड़ा, गुजराल और अटल बिहारी वाजपेयी जैसे प्रवक्ता सामने आएं। यह कहानी, स्वतंत्र भारत में भारतीय पूंजीवाद के विकास की कहानी, पूरे सड़सठ सालों की कहानी है। इतने लंबे काल तक नाना प्रकार के टेढ़े-मेढ़े रास्तों से लगातार धन के उत्पादन, लूट-खसोट और गलाकाटू प्रतिद्वंद्विताओं में तल्लीन हमारा आज का उपभोक्तावादी समाज इस बात को लगभग भूल चुका है कि उसका जन्म आजादी की लड़ाई के दिनों के वीर सेनानियों की मृतात्माओं के संरक्षण में हुआ हैं। राजनीति एक आदर्श-शून्य, शुद्ध पेशेवरों का कमोबेस खानदानी धंधा बन चुकी है।
ऐसे सामान्य परिवेश में, अतीत के सारे कूड़ा-कर्कट को साफ कर देने की दहाड़ के साथ सत्तासीन होने वाले शूरवीर द्वारा अपनी सेवा के लिये मृतात्माओं का आह्वान किस बात का संकेत है ? क्या तूफान की गति से इतिहास का पथ बदल देने का दंभ भरने वालों में सिर्फ पांच महीनों में ही सहसा किसी मृतयुग में पहुंच जाने का अहसास पैदा होने लगा है? वैसे भी, हाल के उपचुनावों और राज्यों के चुनावों के बाद एक सिरे से सब यह कहने लगे हैं कि भाजपा की बढ़त के बावजूद मोदी लहर जैसी किसी चीज का अस्तित्व नहीं रहा है। राजनीति के नाम पर वही सब प्रकार की जोड़-तोड़, सरकारें बनाने-बिगाड़ने की अनैतिक कवायदें, अपराधियों को हर प्रकार का संरक्षण देने की शर्मनाक कोशिशें, एक-दूसरे की टांग खिंचाई की साजिशाना हरकतें, सार्वजनिक धन को निजी हाथों में सौंप देने की राजाज्ञाएं, सीमाओं को लेकर थोथा गर्जन-तर्जन और विश्व पूंजीवाद के सरगना अमेरिका की चरण वंदना। यही तो है, एक शब्द में – राजनीति का मोदी-अमितशाहीकरण !
इसीलिये, स्वपन दासगुप्त जो भी कहे, अब इतना तो साफ है कि मोदी का सत्ता में आना किसी आकस्मिक हमले के जरिये बेखबरी की स्थिति में किसी को अपने कब्जे में ले लेना जैसा ही था। वैसा धुआंधार, एकतरफा प्रचार पहले किसी ने नहीं देखा था। अन्यथा, न भ्रष्टाचार-कदाचार में कोई फर्क आने वाला है, न तथाकथित नीतिगत पंगुता में। जब आंख मूंद कर पुराने ढर्रे पर ही चलना है तो क्या सजीवता, और क्या पंगुता ! इस पूरे उपक्रम में यदि कुछ बदलेगा तो, जैसा कि नाना प्रकार की खबरों से पता चल रहा है, पिछली सरकार द्वारा मजबूरन अपनाये गये गरीबी कम करने के कार्यक्रमों में कटौती होगीय भूमि अधिग्रहण कानून में किसानों के हित में किये जारहे सुधारों को रोका जायेगाय और भारत में विदेशी पूंजी के अबाध विचरण का रास्ता साफ किया जायेगा। भारत सरकार गरीबों को दी जाने वाली तमाम प्रकार की रियायतों में कटौती करें, इसके लिये सारी दुनिया के  बाजारवादी अर्थशास्त्री लगातार दबाव डालते रहे हैं। इसीप्रकार भूमि अधिग्रहण के मामले में बढ़ रही दिक्कतों को खत्म करने और बैंकिंग तथा बीमा के क्षेत्र को विदेशी पूंजी के लिये पूरी तरह से खोल देने के लिये भी दबाव कम नहीं हैं। मनमोहन सिंह इन सबके पक्ष में थे, फिर भी विभिन्न राजनीतिक दबावों के कारण अपनी मर्जी का काम नहीं कर पा रहे थे। इसीलिये उनकी सरकार पर लगने वाले ‘नीतिगत पंगुता’ के सभी सच्चे-झूठे अभियोगों में ये सारे प्रसंग भी शामिल किये जाते थे। मोदी सरकार ने इसी ‘नीतिगत पंगुता’ से उबरने के लिये सबसे पहले गरीबी को कम करने वाली योजनाओं की समीक्षा करनी शुरू कर दी है। बीमा क्षेत्र को तो विदेशी पूंजी के लिये खोल ही दिया है, भूमि अधिग्रहण विधेयक के मामले में भी पहले सर्वसम्मति से जो निर्णय लिये गये थे, उन सबको बदलने के बारे में विचार का सिलसिला शुरू हो गया है।
चन्द रोज पहले ही प्रकाशित हुई विश्व बैंक की एक रिपोर्ट से पता चलता है कि सन् 2011 से 2013 के बीच दुनिया में गरीबी को दूर करने में भारत का योगदान सबसे अधिक (30 प्रतिशत) रहा है। खास तौर पर मनरेगा और बीपीएल कार्ड पर सस्ते में अनाज मुहैय्या कराने  की तरह के कार्यक्रमों ने सारी दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींचा है। इन कार्यक्रमों के चलते भारत में मजदूरी के सामान्य स्तर में वृद्धि हुई है। लेकिन भारतीय उद्योग और मोदी सरकार भी सस्ते माल के उत्पादन की प्रतिद्वंद्विता में भारत को दुनिया के दूसरे देशों से आगे रखने के नाम पर मजूरी के स्तर को नियंत्रित रखना चाहती है। ‘श्रमेव जयते’ योजना, पूंजी और श्रम के बीच की टकराहट में सरकार की अंपायर की भूमिका के अंत की योजना, जिसकी घोषणा के दिन को खुद भाजपा के श्रमिक संगठन, भारतीय मजदूर संघ ने भारत के मजदूरों के लिये एक काला दिवस कहा, मोदी उसीकी शेखी बघारने में फूले नहीं समा रहे। हांक रहे हैं – ‘श्रमयोगी बनेगा राष्ट्रयोगी’।
इन सारी स्थितियों में, ‘कांग्रेस-विहीन’ भारत सिर्फ चमत्कारों पर विश्वास करने वाले कमजोर लोगों में ही किसी नये विश्वास का उद्रेक कर सकता है। भविष्य के उन कार्यक्रमों के गुणगान में, जिनकी उन्होंने अपने मन में योजनाएं बना रखी है, लेकिन उन पर असल में अमल की कोई मंशा या अवधारणा ही नहीं हैं, ये वर्तमान के यथार्थ के अवबोध को ही खो दे रहे हैं।
‘स्वच्छता अभियान’ का ही प्रसंग लिया जाए। साफ और स्वच्छ भारत के पूरे मसले को जनता के शुद्ध आत्मिक विषय में तब्दील करके पूरे मामले को सिर के बल खड़ कर दिया जा रहा है। इन्हीं तमाम कारणों से वह समय दूर नहीं होगा, जब यह प्रमाणित करने के लिये इकट्ठे हुए लोग कि हम अयोग्य नहीं है, अपना बोरिया-बिस्तर समेटते हुए दिखाई देने लगेंगे – ‘जो आता है वह जाता है’ का बीतरागी गान करते हुए। स्वपन दासगुप्त मोदी-विरोधियों से मोदी की पिटाई के लिये नयी छड़ी खोजने की बात करते हैं। यह नहीं देखते कि जो पिटे हुए रास्ते पर चलने की पंगुता का शिकार हो, उसे पीटने के लिये किसी छड़ी की जरूरत ही नहीं होगी। मोदी शासन के प्रारंभ में ही उसके दुखांत के बीज छिपे हुए हैं।

——अरुण माहेश्वरीphoto

दलित बहुजन राजनीति की ओर
दलित सेना से निकाले जाने के बाद मेरे लिए अगला स्वाभाविक ठिकाना बहुजन समाज पार्टी और उस जैसी सोच रखने वाले संस्था, संगठन थे, मैं अपने आपको अब वैचारिक रूप से इन्हीं के करीब पाता था, मैंने सोच रखा था कि किसी दिन अगर मैं सक्रिय राजनीति का हिस्सा बनूँगा तो उसकी शुरुआत बसपा से ही होगी, बसपा उन दिनों मेरे लिए एक सामाजिक आन्दोलन थी, मेरे एक मित्र आर0पी0 जलथुरिया के घर बहुजन संगठक नामक अखबार आता था, मैं उसे नियमित रूप से पढ़ता था, बसपा सुप्रीमों मान्यवर कांशीराम के प्रति मन में बहुत अधिक सम्मान भी था, उनके द्वारा सोई हुई दलित कौमों को जगाने के लिए किए जा रहे प्रयासों का मैं प्रशंसक और समर्थक था, तिलक तराजू और तलवार को जूते मारने की बात मुझे अपील करती थी। उस वक्त का मीडिया आज जितना ही दलित विरोधी था, मान्यवर मीडिया के इस चरित्र का बहुत ही सटीक और सरल विश्लेषण करते हुए कहते थे कि मीडिया कभी भी बहुजन समर्थक नहीं हो सकता है, उसमें बनिए का पैसा और ब्राह्मण का दिमाग लगा हुआ है, अगर हम देखें तो हालात अब भी जस के तस ही है, अभी भी अधिकांश मीडिया हाउस के मालिक वैश्य हैं और संपादक ब्राह्मण।
कांशीराम को तत्कालीन मीडिया अक्सर एक अवसरवादी और जातिवादी नेता के रूप में पेश करता था, अवसरवाद पर बोलते हुए उन्होंने एक बार कहा था-हाँ मैं अवसरवादी हूँ और अवसर ना मिले तो मैं अवसर बना लेता हूँ समाज के हित में और वाकई उन्होंने बहुजनों के लिए खूब सारे मौके बनाए, उनके द्वारा दिए गए नारों ने उन दिनों काफी हलचल मचा रखी थी, मनुवाद को उन्होंने जमकर कोसा, जयपुर में हाईकोर्ट में खड़े मनु की मूर्ति को हटाने के लिए भी उन्होंने अम्बेडकर सर्कल पर बड़ी मीटिंग की, हम भीलवाड़ा से पूरी बस भर कर लोगों को लाए, मान्यवर की पुस्तक चमचा युग भी पढ़ी, उसमें चमचों के विभिन्न प्रकार पढ़कर आनंद आया, चमचों का ऐसा वर्गीकरण शायद ही किसी और ने किया होगा, वाकई कांशीराम का कोई मुकाबला नहीं था। बाबा साहब अम्बेडकर के बाद उन्होंने जितना किया, उसका आधा भी बहन कुमारी कर पातीं तो तस्वीर आज जितनी निराशाजनक है शायद नहीं होती, पर दलित की बेटी दौलत की बेटी बनने के चक्कर में मिशन को ही भुला बैठी।
मुझे मान्यवर से 5 बार मिलने का अवसर मिला, उनकी सादगी और समझाने के तरीके ने मुझे प्रभावित किया, वे जैसे थे, बस वैसे ही थे, उनका कोई और चेहरा नहीं था, तड़क भड़क से दूर, मीडिया की छपास लिप्सुता से अलग, लोगों के बीच जाकर अपनी बात को समझाने का उनका श्रम
साध्य कार्य मेरी नजर में वन्दनीय था, मैं उनकी बातों और नारों का तो दीवाना ही था, ठाकुर ब्राह्मण बनिया को छोड़कर सबको कमेरा बताना और इन्हें लुटेरा बताने का साहस वो ही कर सकते थे, ये मान्यवर कांशीराम ही थे जिन्होंने कांग्रेस को साँपनाथ, भाजपा को नागनाथ, जनता दल को सँपोला और वामपंथियों को हरी घास के हरे साँप निरूपित किया था, बसपा सपा गठबंधन सरकार के शपथ ग्रहण के वक्त लगा नारा-मिले मुलायम कांशीराम, भाड़ में जाए जय श्रीराम, उस वक्त जितना जरुरी था, आज भी उसकी उतनी ही या उससे भी अधिक जरूरत महसूस होती है।
चूँकि मेरा प्रारम्भिक प्रशिक्षण संघी कट्टरपंथी विचारधारा के साथ हुआ इसलिए चरमपंथी विचारधारा मुझे तुरंत लुभा लेती थी, उदारवादी और गांधीवादी टाइप के अम्बेडकरवादियों से मुझे कभी प्रेम नहीं रहा, समरसता, समन्वयन और भाईचारे की फर्जी बातों पर मेरा ज्यादा यकीन वैसे भी नहीं था, इसलिए मान्यवर जैसे खरी खरी कहने वाले व्यक्ति को पसंद करने में मुझे कोई दिक्कत नहीं थी, एक और बात जो उनकी मुझे पसंद आती थी वह यह थी कि वे कभी किसी की चमचागीरी नहीं करते दिखाई पड़े, याचक सा भाव नहीं, बहुजनों को हुक्मरान बनाने की ललक और उसके लिए जीवन भर का समर्पण, इसलिए मैं सदैव ही कांशीराम को पसंद करता रहा और आज भी अपनी सम्पूर्ण चेतना के साथ उन्हें आदर देता हूँ। मेरी उनसे आखिरी मुलाकात चित्तौड़गढ़ के डाक बंगले में हुई, वे गाडि़या लोहारों के सम्मेलन को संबोधित करने आए थे, उन्होंने कहा कि मैं चाहता हूँ की राजस्थान में कोई मेघवाल मुख्यमंत्री बने, मैं उन्हें राजा बनाने आया हूँ, लेकिन मान्यवर की इस इच्छा को परवान चढ़ाने के लिए बसपा कभी उत्सुक नहीं नजर आई, जो लीडरशिप इस समुदाय से उभरी शिवदान मेघ, भोजराज सोलंकी अथवा धरमपाल कटारिया के रूप में, उसे भी किसी न किसी बहाने बेहद निर्ममता से खत्म कर दिया गया, मैंने देखा कि ज्यादातर प्रदेश प्रभारी बहन जी उतर प्रदेश से ही भेजती हैं जिनका कुल जमा काम राजस्थान से पार्टी फण्ड, चुनाव सहयोग और बहन जी के बर्थ डे के नाम पर चंदा इकट्ठा करना रहता है,
जब तक मान्यवर कांशीराम जिंदा और सक्रिय रहे, तब तक बसपा एक सामाजिक चेतना का आन्दोलन थी ,उसके बाद वह जेबकतरों की पार्टी में तब्दील होने लगी, जिधर नजर दौड़ाओ उधर ही लुटेरे लोग आ बैठे, बातें विचारधारा तथा मिशन की और काम शुद्ध रूप से लूट-पाट। सेक्टर प्रभारी से लेकर बहनजी तक जेब गरम ही बसपा का खास  धरम हो गया, धन की इस वेगवान धारा में विचारधारा कब बह कर कहाँ जा गिरी, किसी को मालूम तक नहीं पड़ा, आज भी यह प्रश्न अनुत्तरित है कि बसपा नामक विचारधारा का आखिर हुआ क्या?
तिलक तराजू और तलवार को चार-चार जूते मारने वाले उन्हीं  तिलक धारियों के जूते और तलुवे चाटने लग गए, बसपा का हाथी अब मिश्रा जी का गणेश था, मनुवाद को कोसने वाले अब ब्राह्मण भाईचारा सम्मेलनों में शंखनाद कर रहे थे और पूरा बहुजन समाज बहनजी की इस कारस्तानी को सामाजिक अभियांत्रिकी समझ कर ढपोरशंख बना मूक दर्शक बना हुआ था, किसी की मजाल जो दलित समाज की नई नवेली इस तानाशाह के खिलाफ सवाल उठाने की हिम्मत करता? बसपा अब द्विजों को जनेऊ बाँटने का गोरखधंधा भी करने लगी थी, दलितों को बिकाऊ नहीं टिकाऊ होने की नसीहत देने वाली पार्टी के चुनावी टिकट सब्जी मंडी के बैगनों की भाँति खुले आम बिकने लगे, पैसा इकट्ठा करना ही महानतम लक्ष्य बन चुका था, बर्थ डे केक, माथे पर सोने का ताज और लाखों रूपए की माला पहन कर बहनजी मायावती से मालावती बन बैठीं, बहुजन समाज स्वयं को ठगा सा महसूस करने लगा, सामाजिक परिवर्तन के एक जन आन्दोलन का ऐसा वैचारिक पतन इतिहास में दुर्लभ ही है, मैं जिस उम्मीद के साथ बसपा में सक्रिय हुआ, वैसा कोई काम वहाँ था ही नहीं, वहाँ कोई किसी की नहीं सुनता है, बहन जी तो कथित भगवानों की ही भाँति अत्यंत दुर्लभ हस्ती हैं , कभी कभार पार्टी मीटिंगों में दर्शन देतीं, जहाँ सिर्फ वे कुर्सी पर विराजमान होतीं और तमाम बहुजन कार्यकर्ता उनके चरणों में बैठ कर धन्य महसूस करते, बसपा जैसी पार्टी में चरण स्पर्श जैसी ब्राह्मणवादी क्रिया नीचे से ऊपर तक बेहद पसंद की जाती है, जो जो चरनागत हुए वे आज तक बहन जी के शरनागत है, शेष का क्या हाल हुआ, उससे हर कोई अवगत है, जो भी बहन जी को चमकता सितारा लगा, उसकी शामत आ गयी, बोरिया बिस्तर बँध गए, सोचने समझने की जुर्रत करने वाले लोग गद्दार कहे जा कर मिशनद्रोही घोषित किए गए और उन्हें निकाल बाहर किया गया, हालत इतने बदतर हुए कि हजारों जातियों को एकजुट करके बनी बहुजन समाज पार्टी सिर्फ ब्राह्मण चमार पार्टी बन कर रह गई, मान्यवर कांशीराम रहस्यमय मौत मर गए और धीरे-धीरे बसपा भी अपनी मौत मरने लगी, उसका मरना जारी है। सामाजिक चेतना के एक आन्दोलन का इस तरह मरना निःसंदेह दुख का विषय है पर किया ही क्या जा सकता है, जहाँ आलोचना को दुश्मनी माना जाता हो और कार्यकर्ता को पैसा उगाहने की मशीन, वहाँ विचार की बात करना ही बेमानी है, मैं बसपा का सदस्य तो रहा और मान्यवर ने मुझे राष्ट्रीय कार्यकारिणी के लिए भी नामित किया, लेकिन मैं कभी भी आचरण से बसपाई नहीं हो पाया, मुझमें वह क्षमता ही नहीं थी, यहाँ भी लीडर नहीं डीलर ही चाहिए थे, जिन कारणों ने पासवान जी से पिंड छुड़वाया वे ही कारण बहनजी से दूर जाने का कारण बने, दरअसल जिस दिन कांशीराम मरे, उस दिन ही समाज परिवर्तन का बसपा नामक आन्दोलन भी मर गया, मेरे जैसे सैंकड़ों साथियों के सपने भी मर गए, उस दिन के बाद ना मुझे बसपा से प्यार रहा और ना ही नफरत।
-भँवर मेघवंशी
लोकसंघर्ष पत्रिका -सितम्बर अंक में प्रकाशित
मोबाइल: 09571047777

रामविलास या भोगविलास
दलित साहित्य का पठन पाठन निरन्तर जारी था, अब मैंने दलित समुदाय के सामाजिक एवं राजनैतिक कार्यकर्ताओं से भी मिलना जुलना प्रारम्भ कर दिया था, उन्हीं दिनों मुझे न्यायचक्र नामक पत्रिका पढ़ने को मिली, जिसे दलित नेता रामविलास पासवान सम्पादित करते थे, उस अंक के कवर पर लिखा उद्धरण मुझे बहुत अच्छा लगा, जिसमें पासवान कहते हैं कि ‘मैं उन घरों में दिया जलाने चला हूँ, जिनमें सदियों से अँधेरा है, मैंने सोचा, मुझे भी तो ऐसी ही आँखों से आँसू पोछने हैं जिनमें बरसों से आँसुओं के अलावा कुछ भी नहीं है, इस तरह तो पासवान जी और मेरी राह एक ही है, मैंने राम विलास पासवान से मिलने की ठान ली, और एक दिन मैं उनके 12 जनपथ, नई दिल्ली स्थित निवास पर जा पहुँचा, काफी प्रयास के बाद उनसे मुलाकात हो पाई। मैं दिखने में तो आज की तरह ही दुबला-पतला बिल्कुल बच्चे जैसा था, मेरी बातों पर वे यकीन ही नहीं कर पा रहे थे कि मैं आर0एस0एस0 जैसे विशाल अर्द्धसैनिक संगठन से अकेले लोहा ले रहा हूँ, जब मैंने उन्हें अपने द्वारा सम्पादित ‘ दहकते अंगारे ‘की खबरें और अपने नाम से विभिन्न अखबारों में छपे आलेख दिखाए तब उन्हें यकीन होने लगा, उनकी आँखों में विश्वास और प्रशंसा के भाव एक साथ ही दिखाई पड़े, इस मुलाकात का फायदा यह हुआ कि मैं मात्र 20 वर्ष की आयु में ही दलित सेना का भीलवाड़ा जिले का अध्यक्ष बना दिया गया, मैंने दलित सेना में रहते हुए जमकर काम किया, कई दलित चेतना शिविर आयोजित किए, रैलियों में जयपुर से लेकर प्रगति मैदान तक भीड़ लेकर गया, मेम्बरशिप में भी हमारा जिला काफी आगे रहा, नतीजतन पासवानजी मेरे काम से काफी खुश हुए और 1996 में जब वे रेल मंत्री बने तो उन्होंने मुझे पश्चिमी रेलवे का सलाहकार बना दिया। मंत्री रहते हुए पासवान और उनके नजदीकी दलित नेताओं की कार्यशैली और व्यवहार काफी बदल गए, जिस क्रांतिकारी दलित नेता रामविलास पासवान से मैं मिला और जिसके विचारों से मैं प्रभावित हुआ था, अब सत्ता की चकाचैंध और उनके आसपास उग आए दलालों ने उन्हें बिल्कुल ही बदल डाला था, पूरा राजनैतिक सामाजिक परिदृश्य ही बदल गया था, हर कोई भारतीय रेलवे को लूट खाने में लग गया, राम नाम की लूट मची हुई थी, दलित सेना के कई नेता जो रेलवे भर्ती बोर्ड के सदस्य बने हुए थे, भर्तियों के नाम पर खुल्लमखुल्ला पैसा बटोर रहे थे, छोटे-मोटे सब नेता अपनी अपनी क्षमता जितना लूटने में लगे थे, जिसे कुछ नहीं मिल सकता था, वे रेलवे में छोटे-मोटे ठेके ही लेने की कोशिश में लगे थे, रेलवे भवन से लेकर प्रत्येक रेलवे स्टेशन तक हर तरफ सिर्फ धन का साम्राज्य फैला हुआ था, अब दलित सेना में जय भीम सिर्फ एक नारा था, जो पैसा बटोर कर ला सके और दलाली कर सके वही कार्यकर्ता सबसे प्यारा था, मैं आया तो यहाँ मिशन के लिए था, पर हमारे मसीहाओं को तो कमीशन खाने से ही फुरसत न थी, मेरा यहाँ भी दम घुटने लगा, मुझे अपने आप पर ही शक होने लगा कि हर जगह मैं इतना जल्दी क्यों ऊबने लगता हूँ, कहीं पर भी फिट क्यों नहीं हो पाता हूँ, अब यहाँ तो सब लोग अपने ही हैं फिर भी सवाल उठने लगे कि मैं यहाँ क्यों हूँ? मैं यहाँ लीडरशिप करने आया था पर यहाँ तो डीलरशिप करने की जरूरत पड़ रही है, क्या मैं लोगों से पैसा बटोर-बटोर कर दिल्ली ले जाने का काम कर पाऊँगा ,मैं उन लोगों से नजरें कैसे मिलाऊँगा, जिनकों मैं बड़ी-बड़ी सैद्धांतिक बातें समझाता रहा हूँ, यह कैसा दीपक है जिसे मैं जलाने चला हूँ, इससे मैं किसी का घर रोशन कर पाऊँगा या उनका घर ही जला बैठूँगा, सैंकड़ों सवाल मेरे मन मस्तिष्क में उमड़ने लगे, एक बार फिर मैं बैचेनी और अवसाद का शिकार होने लगा था, मुझसे रहा नहीं गया, मैंने दलित मसीहा रामविलास पासवान की राजसी जीवनशैली और उनके इर्द गिर्द के चमचानुमा नेताओं द्वारा इकट्टा की जा रही अकूत धन सम्पदा पर एक सम्पादकीय दहकते अंगारे में लिख डाला, जिसका शीर्षक था ‘रामविलास या भोगविलास‘ ?
बस फिर क्या था, मुझे इस अपराध की तुरंत सजा दी गई, दलित सेना के राजस्थान प्रदेश के तत्कालीन अध्यक्ष ने मुझे अनुशासनहीनता के आरोप में जिलाध्यक्ष के पद से हटा दिया और प्राथमिक सदस्यता से भी निकाल बाहर किया, मैंने भी दलितों की इस दलाल सेना से बाहर हो जाने में ही अपनी भलाई समझी, कभी वापसी के बारे में नहीं सोचा, दलित सेना से निकाले जाने के लगभग 15 साल बाद अन्ना हजारे के आन्दोलन के साम्प्रदायिक चरित्र पर मेरे द्वारा उठाए गए सवालों को पढ़कर लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव खालिक साहब ने मुझे वर्ष 2012 में अपनी पार्टी के कैडर को
संबोधित करने के लिए सोमनाथ आमंत्रित किया, तब मंच पर पासवान और उनकी मंडली से पुनः मुलाकात हुई, बीच के दिनों में वे एन0डी0ए0 सरकार में मंत्री रह लिए थे, फिर गुजरात में किए गए अल्पसंख्यकों के एकतरफा नरसंहार को मुद्दा बनाकर वे राजग का डूबता जहाज छोड़ भागे छूटे, बाद में बिहार में मुस्लिम मुख्यमंत्री का मुद्दा बनाए डोलते फिरे, असफल रहे। अंततः हाल ही में राजनाथ सिंह के पाँव पड़कर वापस राजग का हिस्सा बन बैठे, कभी मोदी को गुजरात नरसंहार के लिए दोषी बताने वाले रामविलास पासवान अब उन्हें पाप मुक्ति का प्रमाण पत्र बाँट रहे थे, अंततः अपना और अपने खानदान और अपनी जेबी पार्टी एल0जे0पी0 का भविष्य सँवारने के लिए तमाम पिछली बातों को भुला कर अपना ही थूँका हुआ चाटकर वे मोदी के शरणागत हो गए, गठबंधन में जीत कर आ गए और अब खाद्य एवं आपूर्ति मामलों के मिनिस्टर बन कर सत्ता का उपभोग करने को तत्पर हैं।
सत्ता की मछली थे, कुर्सी लिप्सुओं से मिलकर अब बेहद खुश हैं , अम्बेडकर के नाम और मिशन को बेच खाने में इनका कोई सानी नहीं है। जय भीम कहते-कहते जय सियाराम का जाप करने लगे हैं, समानता के प्रतीक नीले दुपट्टे की जगह गले में विषमता पैदा करने वाला भगवा पट्टा डाल कर ये फर्जी दलित मसीहा फिर हमारे आपके बीच आने वाले हंै, इन्हें जवाब देना कबीर, फुले अम्बेडकर के अनुयायियों का काम है, समाज को छोड़कर जो राज की ओर चले जाते हंै और सत्य के स्थान पर सत्ता को प्रमुखता दे देते हैं , वे बड़े से बड़े तिकड़मबाज तो हो सकते हंै, मगर हमारे मसीहा नहीं हो सकते है। हमें भेड़ की खाल ओढ़े भेडियों को पहचानना हंै, अब वक्त है कि हम अपने दोस्तों और दुश्मनों की शिनाख्त कर लें ।
-भँवर मेघवंशी
लोकसंघर्ष पत्रिका -सितम्बर अंक में प्रकाशित

 संघ का गोपनीय पत्र
 
-भँवर मेघवंशी
लोकसंघर्ष पत्रिका -सितम्बर अंक में प्रकाशित

 b6439-e0a4b2e0a58be0a495e0a4b8e0a482e0a498e0a4b0e0a58de0a4b72be0a4aae0a4a4e0a58de0a4b0e0a4bfe0a495e0a4be2b2be0a495e0a4be2be0a495e0a4b5eअम्बेडकरवाद  की ओर..
मैं वापस गाँव आ गया पुनः भीलवाड़ा में सक्रिय होने के लिए। अब राजनैतिक रूप से जवाब देने की इच्छा थी, धार्मिक प्रयोग सफल नहीं रहा था, दलित मुस्लिम गठजोड़ परवान ही नहीं चढ़ा और ईसाइयत के आडम्बर भी हिन्दू धर्म जैसे ही लगे, सब प्रकार के धर्म कट्टरता से भरे पड़े हैं, सिर्फ बाहर दिखाने के लिए सर्वधर्म समभाव की बातें करते हैं, वरना तो हरेक का छिपा एजेंडा अपनी संख्या या अपने अनुयायी बढ़ाकर पूरी दुनिया मुट्ठी में कर लेने का ही हैै। कोई पूरी दुनिया को दार उल इस्लाम बनाने की कोशिश में है तो कोई पूरे विश्व को सुसमाचार सुनाने को बेताब है, हिन्दू भी कम नहीं है वे भी कर्ण्वन्तोविश्वमआर्यम‘ का उद्घोष करके पूरी पृथ्वी को आर्य बनाने पर तुले हुए है सब विस्तारवादी, सब स्वर्ग नरक का डर दिखा रहे हैं, मुझे भय भाग्य और भगवान की इन कपोल कल्पनाओं से दूर जाना था, इसलिए वैकल्पिक साहित्य टटोलना शुरू किया, सबसे पहले अम्बेडकर साहित्य से शुरुआत हुई, अब तक अम्बेडकर से मेरा दो तरह से परिचय हुआ था, पहला आरएसएस में रहते हुए, जहाँ प्रातः स्त्रोत में अम्बेडकर को याद करते थे और दत्तोपंत ठेंगी रचित बाबा साहब की जीवनी पढ़ी थी, दूसरा परिचय ओशो के साहित्य के जरिये हुआ जहाँ पर वे गाँधी की आलोचना करते हुए बाबा साहब अम्बेडकर को वैज्ञानिक और तर्कशील व्यक्ति बताते हैं।
अब तक मैंने बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर के बारे में संघ के प्रकाशनों पांचजन्य, पाथेयकण, राष्ट्रधर्म, जाह्नवी इत्यादि में यत्र तत्र कुछ कुछ पढ़ा था, जिससे पता चला था कि बाबा साहब भी अन्य महापुरुषों की ही तरह महान राष्ट्रभक्त व्यक्ति थे, उनका भी संविधान को लिखने में योगदान रहा था, वे संस्कृत को राष्ट्रभाषा और भगवा झंडे को राष्ट्रध्वज बनवाना चाहते थे, उन्होंने तमाम प्रलोभनों के बावजूद मुस्लिम या ईसाई बनने के बजाए हिन्दू धर्म की ही एक शाखा बौद्ध धर्म को अपनाया, वे कश्मीर में धारा 370 लगाने के भी कड़े
विरोधी थे उन्होंने अपने साहित्य में कई जगह पर साफ साफ लिखा कि मुस्लिम अलग राष्ट्रीयता की बात हर जगह पर करते हैं इसी तरह की बातें मुझे संघ में रहते हुए मालूम पड़ी थीं लेकिन अब अम्बेडकर को स्वयं को पढ़ते हुए तो मेरा मस्तिष्क चकराने लग गया, पहली ही किताब ‘रिडल्स ऑफ हिन्दुइज्म‘ ने तो दिमाग खराब कर दिया, फिर तो बाबा साहब का जो भी साहित्य जहाँ भी मिला, उसे पढ़ डाला, बाबा साहब के जीवन के कटु प्रसंगों से दो चार होने का मौका मिला, जातिभेद का उच्छेद पुस्तक ने मुझे भारत में जाति जैसी घृणित व्यवस्था के जनक ब्राह्मणवाद को समझने का अवसर दिया, अब मुझे आरएसएस का पूरा खेल समझ में आने लगा, उनके ‘समरसता‘ के नारे में छिपे सामाजिक समानता और न्याय तथा सामाजिक परिवर्तन की धार को कुंद करने का षड्यंत्र समझ में आने लगा, दलितों को ‘वंचित‘ और आदिवासियों को ‘वनवासी‘ नाम देने की राजनीति भी समझ में आने लगी, संघ की शाखाओं में गाए जाने वाले गीत ‘मनुष्य तू बड़ा महान है, तू मनु की संतान है’ के खिलाफ भी अन्तःकरण की अतल गहराइयों से अस्वीकार का भाव उठा कि जिस मनु ने जाति आधारित पूरी व्यवस्था को संहिताबद्ध किया तथा शूद्रों और औरतों तथा अवर्ण अछूतों को जानवर से भी कम आँका, उस हरामी को महर्षि मनु कहकर इंसानों का पूर्वज बताना कितना बड़ा कुकर्म था? मेरे दिमाग के बंद द्वार अब खुलने लगे थे, मैंने मनुस्मृति को पढ़ा तो बाबा साहब सही लगे, उसका दहन जरुरी लगा, ज्यों ज्यों मैं बाबा साहब को पढ़ते जाता, वैसे वैसे मेरे विद्रोही विचार और अधिक मजबूत होते जाते थे, अम्बेडकर साहित्य ने मुझमें प्रगतिशीलता के बीज बोए, दलित दृष्टिकोण ने मेरी आरएसएस के खिलाफ अब तक लड़ी गई व्यक्तिगत लड़ाई को एक सामाजिक गरिमा, अस्मिता और पहचान की सामूहिक लड़ाई बनाने में मदद की, फिर तो कबीर, फुले, पेरियार को भी पढ़ा, अब मैं सिर्फ बागी नहीं था, अब प्रतिशोध की आग परिवर्तन की चाह में ढलने लगी, मनोरंजन के लिए या खुद की खुशी के लिए लिखी गई कविताओं की जगह जलते हुए प्रश्न खड़े करने वाली कविताओं ने ले ली, मैंने ‘श्यामल सुरभित सी अलकें मदिरा घट सी पलकें’ वाली श्रृंगार रस की कविताएँ जला डाली, अब मेरे काव्य का मुख्य स्वर बगावत हो गया था, उन दिनों तब मैंने लिखा-
‘केवल मनुस्मृति को ही जला कर,
रुक क्यों गए बाबा साहब?
क्यों नहीं जला डाले
वे सब मनु, जो बसे हैं
कथित उच्चों के मनों में ’
(एकलव्य की गुरु भक्ति पर)
‘एकलव्य क्यों दिया तूने
दक्षिणा में अपना अँगूठा,
क्यों नहीं काटा
द्रोणाचार्य का सिर
ताकि और किसी एकलव्य का
अँगूठा माँगने आता ही नहीं,
फिर कोई द्रोण
और पैदा ही नहीं होते
फिर कोई भी द्रोणवादी लोग‘
(राम शबरी प्रसंग पर )
‘राजा रामचंद्र तुमने
उस आदिवासिन शबरी के पास
जूठे बेर भी नहीं छोड़े
इस तरह निभा ही लिया
तुमने भी हमसे सच्चा बैर‘

ऐसी ही दर्जनों कविताएँ इस दौर में लिखी र्गइं, मेरे गद्य लेखन का भी सुर बदला, वह भी बगावती हुआ, कपोल कल्पित कहानियों की जगह दलित जीवन से जुड़ी खुरदरी और तीखी कहानियों ने ले ली। मेरा पठन-पाठन भी निरंतर जारी था, पेरियार की सच्ची रामायण और फुले की गुलामगिरी तथा एल0आर0 बाली की ‘हिन्दुइज्म धर्म या कलंक‘ पढ़ी, सरिता मुक्ता रीप्रिंट भी पढ़े, बाबा साहब को तो पढ़ा ही, बाबा साहब पर आ रही अन्य पुस्तके भी पढ़ीं, ओशो को भी पढ़ा, कृष्णमूर्ति, लोहिया, जयप्रकाश नारायण, मधु लिमिये और किशन पटनायक, मार्क्स, एंजेल्स, फ्रायड और नीत्शे को भी पढ़ने लगा। हिंदी साहित्य के समकालीन कई रचनाकारों को भी पढ़ने का अवसर मिला, इन सबने मुझे वैचारिक रूप से मजबूती दी। आर0एस0एस0 की आलोचना में लिखा गया बहुत सारा साहित्य भी पढ़ने को मिला, अगर मैं कहूँ कि अम्बेडकरवादी और मानवतावादी साहित्य ने मुझे मानसिक गुलामी से निजात दिलाई तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी समतावादी शब्दों और रचनाओं ने मेरी जिन्दगी की दिशा बदल दी।
-भँवर मेघवंशी
लोकसंघर्ष पत्रिका -सितम्बर अंक में प्रकाशित

धर्मान्तरण की कोशिशे
मैंने गंभीरता से धर्मान्तरण के बारे में सोचना शुरू किया, संघ में रहते हुए यह समझ थी कि सिख, जैन और बौद्ध तो हिन्दू ही है और मुसलमानों को लेकर अभी भी दिल दिमाग में कई शंकाए आशंकाए थीं, इसलिए इस बारे में सोचना भी जरूरी नहीं लगा, तब एक मात्र विकल्प के रूप में ईसाई ही बचे थे, मैंने सोचा क्यों नहीं ईसाई लोगों से बात की जाये, ये लोग पढ़े लिखे भी होते हैं और कम कट्टर भी, रही बात संघ की तो वे ईसाइयों से भी उतने ही चिढ़ते है जितने कि मुस्लिमों से। लेकिन सवाल यह उठ खड़ा हुआ कि ये ईसाई लोग पाए कहाँ जाते हैं मैं आज तक किसी भी ईसाई से नहीं मिला और ना ही कोई परिचित था हालाँकि आरएसएस में रहते उनके खिलाफ बहुत पढ़ा था, यह भी सुन रखा था कि जो भी उनके धरम में जाता है, उन्हें लड़की और नौकरी दी जाती है, पर मुझे तो दोनों की ही जरुरत नहीं थी, मुझे तो सिर्फ बदला लेना था, मुझे तो सिर्फ उनको चिढ़ाना था, जिन्होंने मेरी बेइज्जती की थी और मुझे ठुकरा दिया था। मैंने ईसाई खोजो अभियान शुरू कर दिया, जल्दी ही मैं भीलवाड़ा शहर के आजाद नगर क्षेत्र के एक प्रिंटिंग प्रेस के मालिक से मिलने में सफल रहा जिनका नाम बथुअल गायकवाड़ बताया गया था, दरअसल मेरे जीजाजी जो कि प्रेस पर कम्पोजीटर थे, वे कुछ ही दिन पहले इस प्रेस पर काम पर लगे थे और मैं उनको ढूँढते हुए वहाँ पहँुचा तो मेरी दोनों खोजें पूरी हो गई, ये महाशय एक स्कूल और चर्च के भी मालिक थे, मैंने उनसे बात की और अपना छिपा हुआ एजेंडा बताया और उनसे पूछा कि-क्या मैं ईसाई बन सकता हूँ? उन्होंने पूछा कि क्यों बनना चाहते हो? तब मैंने उन्हें आरएसएस के साथ चल रहे अपने पंगे के बारे में बताया और कहा कि मैं उनको सबक सिखाना चाहता हूँ। इस पर गायकवाड़ जी बोले-मसीहियत बदला लेने में नहीं बल्कि माफ करने में विश्वास करती है। इसलिए तुम भी उन्हें माफ कर दो और रेगुलर चर्च आना शुरू करो, जीजस में यकीन करो, वही हमारा मुक्तिदाता और सारे सवालों का जवाब है। मैंने उनसे साफ कहा कि मैं मुक्ति नहीं खोज रहा और न ही धर्म और भगवान, ना ही मेरा कोई सवाल है, मुझे कोई जवाब नहीं चाहिए मैं तो सिर्फ और सिर्फ संघ की पाखंडी और दोगली नीति को बेनकाब करना चाहता हूँ उन्होंने मेरी बात को पूरी ओढ़ी हुई धार्मिक गंभीरता से सुना और अगले रविवार को प्रार्थना में आने का न्योता दिया, मैं रविवार को उनकी प्रार्थना सभा का हिस्सा बनता इससे पहले ही पादरी साहब ने मेरे जीजाजी के मार्फत मेरे परिवार तक यह समाचार भिजवा दिए कि मुझे समझाया जाए क्योंकि मैं ईसाई बनने की कोशिश कर रहा हूँ।
बाद में उन्हें छोड़ कर मैं मेथोडिस्ट, बैप्टिस्ट, सीएनआई, सीरियन, कैथोलिक और भी न जाने कैसे कैसे अजीबो गरीब नाम वाले चर्च समूहों के पास पहुँचा, उन्हें अपनी बात बताई और कहा कि मुझे ईसाई बना दो, लेकिन सब लोग आरएसएस का नाम लेते ही घबरा जाते थे, उन्हें लगता था कि मैं आरएसएस का ही आदमी था जो किसी साजिश के तहत उन्हें जाल में फँसाने की कोशिश कर रहा था, इसलिए वे जल्दी ही किसी न किसी बहाने अपना पिंड छुड़ा लेते मुझे कहीं भी सफलता नहीं मिल पा रही थी।
मसीह मंजूर, मसीहियत नामंजूर
पर हार मानना मेरे स्वभाव में नहीं था, मैं एक स्कूल टीचर से मिला जो मूलतः ब्राह्मण थे मगर वे धर्मान्तरण कर हरिनारायण से अच न्यूमेन हो गए थे। उन्होंने मुझे कुछ धार्मिक शिक्षा दी, मुझे धरम करम में कोई रुचि नहीं थी, सही बात तो यह थी कि मुझे बाइबिल, चर्च, जीसस और मुक्ति जैसी किसी भी बात में रुचि नहीं थी, मेरा मकसद तो कुछ और ही था, मैं न्यूमेन से संतुष्ट नहीं था, उन्होंने मुझे एक सेवंथ डे एडवेंटिस्ट पास्टर परवेज लाल का पता देकर कहा कि इनको चिट्ठी लिखना शायद ये तुम्हारी कुछ मदद कर पाएँगे, मैंने चिट्ठी लिख दी और गाँव आ गया। कुछ ही दिनों में दो अपरिचित सज्जन मेरे घर की दहलीज पर खड़े हो कर मुझी से मेरा पता पूछ रहे थे, मैंने कहा कि मैं ही हूँ वह जिसे आप खोज रहे है। उन्होंने बताया कि वे जोधपुर से आए हैं पादरी पीम लाल, मैंने उनका स्वागत किया, चाय पिलाई, उन्होंने मेरी पूरी बात सुनी और मुस्करा कर बोले कल मेरे साथ चलो।
मैं उनके साथ जोधपुर आ गया करीब तीन महीने उनके पास रहा, उन्होंने पूरी बाइबिल शब्दशः पढ़ा दी, क्षमा, करुणा और प्रायश्चित का महत्व समझाया, इतना कुछ समझाया जितना कि एक ‘’बेचलर ऑफ थियोलोजी‘ के लिए जरुरी होता है, मगर मैं अब भी एक बागी हिन्दू ही था, इसी कारण ज्यादा भरोसेमंद नहीं था उनके लिए, एक रोज उनके चर्च के तमाम विश्वासियों और खुद पास्टर साहब ने तय किया कि मेरा बप्तिस्मा किया जाए, पर इसके लिए जरुरी था कि मैं जोधपुर के जिला कलेक्टर के सामने यह शपथपत्र प्रस्तुत करूँ कि मैं ईसाई बनना चाहता हूँ मैंने यह करने से साफ इंकार कर दिया, मैं तो सिर्फ आरएसएस को चिढ़ाना चाहता था मुझे सिर्फ इतना ही करना था, न इससे कुछ कम और न ही इससे ज्यादा  उन्होंने आपस में कुछ तय किया तथा कानूनन धर्म परिवर्तन करने की योजना को त्याग दिया। अंततः उन्होंने बपतिस्मे की केवल धार्मिक रीति गुपचुप तरीके से करने का निश्चय किया।
फिर एक रविवार को उन्होंने कुछ गीत गाए, बाइबिल से कुछ आयतें पढ़ीं और मुझे पानी के एक टैंक में डुबोकर बाहर निकला, बाहर निकालते वक्त उन्होंने मुझे सफेद कपड़े में ढँका और मेरे कान में कहा कि ‘आज से तुम्हारा पुनर्जन्म हो गया है‘, इस प्रक्रिया को वो ‘बोर्न अगेन‘ कहते है, अब मैं उनकी नजर में एक भरोसेमंद व्यक्ति था लेकिन मुझे धर्म का खोखलापन साफ नजर आ रहा था, यह क्या धर्म है, जो हर सवाल के लिए जीसस को ही उत्तरदायी मानता हो, मेरे अन्दर विद्रोह की लहर सी उठी, मैं यह क्या होने दे रहा हूँ अपने साथ मुझे लगा कि मैं एक खाई से निकल कर कुँए में गिर गया हूँ, एक गुलामी से निकल कर दूसरी दासता में जा रहा था। वास्तव में मैं उस दिन खुद को एक ऐसे कैदी के रूप में पा रहा था जो सिर्फ जेल बदल रहा था।
मैं अपने भीतर के विद्रोही इन्सान को दबा नहीं पा रहा था, मैंने स्पष्ट कर दिया कि मुझे मसीह तो फिर भी मंजूर हो सकते हैं पर आपकी यह मसीहियत मुझे कतई मंजूर नहीं है मैं इसे बर्दाश्त नहीं कर पाऊँगा भले ही आप लोग टाई, कोट और जूते पहन कर अंग्रेजी में प्रार्थना करते हैं लेकिन मूर्खताओं में आपका भी मुकाबला नहीं है। मुझे धर्म के किसी भी संगठित स्वरूप पर घिन आने लगी, मैं ईसाइयत के अन्धे कुँए से बाहर आने को छटपटाने लगा, जल्दी ही मैंने उनको उनकी तमाम मूर्खताओं के साथ अलविदा कह दिया। मुझे सुकून तब मिला जब मैं उनसे मुक्त हुआ मैं आराम की नींद सोया, मुझे लगा कि मुक्ति जीसस, बाइबिल या मसीहियत अथवा किसी भी धर्म में नहीं है बल्कि मुक्ति तो इनसे मुक्त हो जाने में है और मैं इनसे मुक्त हो रहा था मैं खुश था मुझे खुशी हो रही थी कि मैं अब धार्मिक नहीं था मैं विश्वासी नहीं था मैं स्वर्ग में स्थान नहीं पाने जा रहा था मैं अब नरक जाने वाली गाड़ी में सवार था और मैं वाकई इससे बेहद खुश था।
-भँवर मेघवंशी
लोकसंघर्ष पत्रिका -सितम्बर अंक में प्रकाशित
दोस्त हो तो दौलतराज जैसा
मैं कृषि मंडी से बाहर हो गया, घर लौटने का मन नहीं था, संघ के लोगों द्वारा खाना फेंकने के बाद से मैं घर जाने से कतराता था, भीलवाड़ा में ही इधर-उधर भटकना, कहीं खाना, कहीं सोना, कुछ भी ठिकाना न था, अनिश्चय, अनिर्णय और अन्यमनस्क स्थिति के चलते मेरा अध्ययन प्रभावित हो गया, मैंने माणिक्यलाल वर्मा राजकीय महाविद्यालय में प्रथम वर्ष कला संकाय में प्रवेश तो लिया और साल भर छात्र लीडरशिप भी की, लेकिन एग्जाम नहीं दे पाया ,घर पर पिताजी को जब इसकी खबर मिली तो उनकी डाँट पड़ी ,कुछ गालियाँ भी, बस गनीमत यह थी कि पिटाई नहीं हुई, लेकिन इससे पढ़ाई बाधित हो गई, बाद का सारा अध्ययन स्वयंपाठी के रूप में ही संपन्न हुआ। उन विकट दिनों में मुझे अपने छोटे से कमरे में शरण दी, करेड़ा क्षेत्र की नारेली ग्राम पंचायत के रामपुरिया गाँव के निवासी दौलत राज नागोड़ा ने, वे भी आरएसएस के स्वयंसेवक थे, ऑफिसर्स ट्रेनिंग प्राप्त, संघ कार्यालय पर भी रह चुके थे, बदनोर में रहते हुए उन्होंने संघ के आदर्श विद्या मंदिर में आचार्य के नाते भी अपनी सेवाएँ दी थीं, वे बहुत ही सक्रिय स्वयंसेवक माने जाते थे, उनका बौद्धिक भी बेहद सधा हुआ होता था, एक शिक्षक की तरह वे बोलते जो समझने में आसान होता, संघ के गीत भी उन्हें खूब कंठस्थ थे, जिन्हें वे विभिन्न मौकों पर गाते थे ,उनमे लोगो को मोबलाइज करने की अदभुत क्षमता है। उन्हें भी संघ कार्य के दौरान कई प्रकार के कटु अनुभव हुए, भेदभाव और अस्पृश्यता की कड़वी अनुभूतियाँ। एक बार उन्होंने महाराजा अजमीड आदर्श विद्या मंदिर में आयोजित आरएसएस के ऑफिसर्स ट्रेनिंग कैंप (ओटीसी) के बौद्धिक सत्र में जाति उन्मूलन में संघ की भूमिका से सम्बंधित सवाल उठा दिया, जिसका कोई जवाब संघ के पदाधिकारियों से देते नहीं बना ,तत्कालीन प्रचारक महोदय ने दौलत जी को कुछ उल्टा सीधा जवाब दे दिया, मामला इतना तूल पकड़ गया कि मारपीट की नौबत आ गई, जिला प्रचारक और दौलत राज नागोड़ा गुत्थमगुत्था हो गए, दौलत जी भी ठहरे ठेठ देहाती संघर्षशील व्यक्ति। हार मानने का तो सवाल ही नहीं उठता था, उन्होंने संघ के सैंकड़ों कार्यकर्ताओं की मौजूदगी में प्रचारक जी के बाल नोच लिए और उस दिन से आरएसएस से किनारा भी कर लिया, बाद में उन्होंने एक अम्बेडकर बचत समूह बनाकर दलितों को संगठित करना शुरू किया, यह काम उन्होंने निरंतर जारी रखा, दलित आदिवासी युवाओं को कानूनी प्रशिक्षण देने और उन्हें फूले, कबीर, अम्बेडकर के मिशन से जोड़ने में लगे रहे और आज भी लगे हुए हंै। संघ से लड़ाई होने के बाद दौलत राज जी गाडरीखेड़ा में एक कमरा किराये पर ले कर इलेक्ट्रीशियन ट्रेड में आईटीआई करने लगे इस सरकारी संस्थान में भी संघियों की भरमार थी, उनको वहाँ भी उनसे संघर्ष करना पड़ा, बहुत ही कठिन परिस्थितियों में उन्होंने उच्च शिक्षा हासिल की, पान की केबिन लगाकर उन्होंने अपनी वकालत की पढ़ाई पूरी की। फिर प्रैक्टिस शुरू की, वहाँ भी गरीबों के मुद्दे उठाये, उनकी पैरवी की, आज भी पीडि़तों के लिए उनकी प्रतिबद्धता जग जाहिर है तो ऐसे समर्पित साथी के साथ उस छोटे से कमरे में मैं कई दिनों तक टिका, वहीं से एक अखबार निकालने की धुन मुझ पर सवार हुई, मैं अभिव्यक्ति का एक जरिया चाहता था, जिससे संघ और उसकी विचार धारा के दोगलेपन को उजागर कर सकूँ, अंततः वह जरिया पा लिया ‘दहकते अंगारे’ नामक पाक्षिक समाचार पत्र प्रारंभ करके, दौलत राज नागोड़ा तब से आज तक साथ बने हुए हैं, कई बार उन्मादी हुड़दंगी लोगों ने हमारे खिलाफ फतवे जारी किए, हमारी निंदा की गयी ,हमें अलग थलग करने के प्रयास किये गए, मगर संघी हमें दलित, पीडि़त, वंचित जनता से अलग कर पाने में सफल नहीं हुए। दलितों पीडि़तो और हाशिये के तबकों के लिए हमारी आवाज बंद होने के बजाए बुलंद ही हुई। आज दौलत राज नागोड़ा एक स्थापित वकील है, तीन बार वे आसींद बार एसोसिएशन के निर्विरोध अध्यक्ष रह चुके हैं और राजस्थान के दलित मूवमेंट का जाना पहचाना नाम है। इन दिनों वे दलित आदिवासी एवं घुमंतू अधिकार अभियान राजस्थान (डगर) के प्रदेश संयोजक भी हंै और वंचितों के लिए पूरी तरह से समर्पित रहते हैं।
जिन्दगी में दोस्त तो बहुत मिले और मिलते रहते हैं, आगे भी मिलेंगे, पर विगत 25 वर्षों से दौलत जी के साथ जो वैचारिक और मिशनरी दोस्ती बनी रही, उसे मैं अपना सौभाग्य मानता हूँ और अक्सर कहता हूँ कि जीवन में दोस्त हो तो दौलत राज जैसा।
बदलाव नहीं बदला लेने की इच्छा
मैं किसी भी तरीके से प्रतिशोध लेना चाहता था, इसके लिए किसी से भी हाथ मिलाने को तैयार था, जैसा कि नीति कहती है कि दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता है, इसलिए मैं उन तमाम लोगांे से मिलने लगा जिनको आरएसएस के लोग बुरे लोग बताते थे, अब मेरे परिचय क्षेत्र में सेकुलर विधर्मी सब आने लगे, मैं आगे होकर उनसे परिचय बढ़ा रहा था, संघ में रहते हुए मेरे गिनती के मुसलमान ही परिचित थे, चूँकि मैं उन दिनों हास्य व्यंग्य के नाम पर घटिया किस्म की फूहड़ राजस्थानी कविताएँ लिखता था और उन्हें सुनाने के लिए कवि सम्मेलनों में जाता था, इसलिए जमालुद्दीन जौहर, अजीज जख्मी और एक मौलाना नौशाद आलम नामक मुसलमान मेरे जान पहचान के थे, एक और भी व्यक्ति थे वे ट्रेड यूनियन लीडर थे अलाउद्दीन बेदिल, वो भी कभी कभार शेरो शायरी करते थे, इसलिए मुलाकातें हो जाया करती थीं, इनमें से नौशाद आलम मेरी उम्र के ही थे और कविता कहानी के अलावा भी उनसे बातें होती थीं, इसलिए मैंने उनसे दोस्ती बनाने का निश्चय किया और उनसे मिलने निकल पड़ा। नौशाद आलम मूलतः बिहारी थे और मेरे निकटवर्ती गाँव भगवानपुरा में एक मस्जिद में इमामत भी करते थे और मदरसे में पढ़ाते भी थें, ग़ज़लें लिखना तो उनका शौक मात्र था, बाद के दिनों में वे गुलनगरी भीलवाड़ा की मस्जिद के इमाम बन गए, यह उन दिनों की बात है जब कि दूसरी कारसेवा भी हो चुकी थी और बाबरी मस्जिद तोड़ी जा चुकी थी, मुस्लिम मानस गुस्सा था, विशेषकर संघ परिवार के प्रति मुस्लिम युवाओं में भयंकर गुस्सा दिखलाई पड़ता था, तो उस तरह के गरमागरम माहौल में मैं एक दिन मौलाना नौशाद आलम से मिलने पहुँचा, थोड़ी झिझक तो थी, आज मैं एक मस्जिद से लगे मदरसे में बैठा था, इन मस्जिदों के तहखानों में असलहे छिपाकर रखे जाने की बातें संघ में रहते बहुत सुनी थी, इसलिए थोड़ा सा भय भी था पर जब आ ही गया तो बात करके ही वापसी होनी थी, इसलिए रुका रहा, मदरसे से फ्री होकर मौलाना साहब नमाज पढ़ने चले गए, लौटे तो बातचीत का सिलसिला चला, घंटों तक हुई गुफ्तगू का कुल जमा सार सिर्फ यह था कि हमारा दुश्मन एक ही है इसलिए मिलकर उसकी खिलाफत की जाए, सहमति बनी एक संगठन दलित युवाओं का और एक मुस्लिम यूथ का बनाने की। मैंने दलित एक्शन फोर्स बनाई जिससे दलित नौजवान जुड़ने थे और मौलाना नौशाद आलम ने मुसलमान युवाओं के लिए हैदर -ए-कर्रार इस्लामिक सेवक संघ बनाया, मकसद था आरएसएस की कारगुजारियों का पर्दाफाश करना और जरूरत पड़ने पर सीधी कार्यवाही करके जवाब देना, इन संगठनों के बारे में जगह जगह चर्चा शुरू की गई, लोग जुड़ने भी लगे लेकिन हम कुछ भी कर पाते इससे पहले ही खुफिया एजेंसियांे को इन दोनों संगठनों की भनक लग गई और सीआईडी तथा आईबी के अधिकारी और स्थानीय पुलिस हमारे पीछे पड़ गई, हमारे द्वारा नव स्थापित दोनों ही संगठन अपने जन्म के साथ ही मर गए, हम कुछ भी नहीं कर पाए लेकिन इस असफलता ने मुझे निराश और हताश नहीं किया, मेरा गुस्सा जरूर और बढ़ गया, मैंने हार मानने की जगह आरएसएस को चिढ़ाने के लिए धर्म परिवर्तन कर लेने की तरकीब सोची।
-भँवर मेघवंशी
लोकसंघर्ष पत्रिका -सितम्बर अंक में प्रकाशित

लोकसंघर्ष पत्रिका  का कवर

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 211 other followers